छवि बचाने के संकट में मोदी

२०१४ में अपने मज़बूत प्रचार और सटीक नीति के चलते गुजरात के सीम नरेंद्र मोदी ने जिस बड़े परिदृश्य का उपयोग करके देश की जनता के सामने कुछ ऐसा दिखाने में सफलता पायी थी जिसके चलते उन पर विश्वास करके देश ने उन्हें पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के लिए स्पष्ट जनादेश दिया था. गुजरात में गुजराती अस्मिता और विकास की बातें करके जिस तरह से उन्होंने कई क्षेत्रों में बड़े बदलाव करने में सफलता पायी थी संभवतः वही उनकी राजनैतिक शक्ति भी थी पर पूर्ण बहुमत की भारत सरकार…

Read More

राष्ट्रपति चुनाव की राजनीति

अपने संख्या बल के आधार पर अपने प्रत्याशी को रायसीना हिल्स तक पहुँचाने की मज़बूत स्थिति में राजग के सामने विपक्ष की तरफ से कोई बड़ी चुनौती नहीं है क्योंकि इस चुनाव में अधिकांशतः सत्ता पक्ष अपने व्यक्ति को महत्वपूर्ण पद पर लाना चाहता है जिसे किसी भी तरह से गलत भी नहीं कहा जा सकता है क्योंकि देश के संवैधानिक मुखिया के पद पर बैठने वाले व्यक्ति और प्रधानमंत्री के बीच किसी भी तरह की अनबन या विवाद की ख़बरें सामने आती हैं तो वे दलीय लोकतंत्र और संसदीय…

Read More

पाक का यूएन में राग कश्मीरी

                                                         एक बार फिर से पाक के पीएम ने संयुक्त राष्ट्र के वार्षिक अधिवेशन में जिस तरह से कश्मीर का मुद्दा उठाया है और उसके बाद एक बात तो स्पष्ट ही हो गयी है कि अब भी पाक को अपने अस्तित्व को बचाये रखने के लिए कश्मीर की ज़रुरत पड़ती है और भविष्य में भी पड़ती ही रहने वाली है. नवाज़ शरीफ ने जिस तरह से कश्मीर में संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के तहत एक बार फिर से जनमत संग्रह की बात की है उससे यही लगता है कि वे…

Read More