चुनाव सुधार में नैतिकता

देश में होने वाले चुनावों में नेताओं की भाषा और नैतिकता का स्तर जिस तरह से निरंतर रसातल की तरफ जा रहा है उसको देखते हुए अब चुनाव सुधारों में ही इस बात की आवश्यकता भी समझी जानी चाहिए कि नेताओं को दंड के भय से अनुचित बातें कहने और आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने से रोकने के बारे में भी उचित और कठोर संशोधन किये जाएँ. एक समय था जब बड़े नेताओं से लगाकर छोटे स्तर तक की राजनीति में सक्रिय लोग किसी भी परिस्थिति में नैतिकता की…

Read More

चुनाव सुधार – लोकतंत्र के अनुकूल

देश में चुनावी परिदृश्य को किस तरह से सुधारते हुए लोकतंत्र को बचाये रखा जाये आज यह बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र होने के बाद भी आज हमारे देश के बहुत सारे क्षेत्रों में लोकतंत्र की आधारभूत परिकल्पना को जिस तरह से किनारे किया जा रहा है उससे कहीं न कहीं लोकतंत्र ही कमज़ोर हो रहा है और पूरे देश का लोकतान्त्रिक ढांचा केवल कुछ लोगों के हाथों में ही सिमट हुआ नज़र आता है. आज देश में संविधान की कसमें खाने वाले…

Read More

कश्मीरी पंडित और घाटी

कश्मीर के मुद्दे पर स्थलीय परिस्थितियों को समझे बिना ही जिस तरह से केंद्र और जम्मू कश्मीर सरकार की तरफ से अनावश्यक बयानबाज़ी होती रही उसके बाद ही पिछले वर्ष घाटी में अलगाववादियों को एक बार फिर से अपने मंसूबों को पूरा करने लायक माहौल बनाने में काफी मदद मिली थी जिसका असर पिछले वर्ष घाटी में लगातार होने वाले उग्र प्रदर्शनों में भी दिखाई दिया था. इससे पहले होने वाले अधिकांश प्रदर्शन कुछ दिनों में ही समाप्त हो जाते थे पर इस बार कश्मीरियों को अलगाववादी यह समझाने में…

Read More