डेरों, प्रचारकों की दुर्गति के कारण

आज के भौतिक युग में जिस तरह से हर व्यक्ति अपने ही कामों में व्यस्त रहने के लिए अभ्यस्त हो चुका है तो उसके लिये शारीरिक और मानसिक तनाव पैदा करने वाले कारकों में लगातार वृद्धि होती जा रही है जिससे अपने को बचाने का उसे कोई सुरक्षित मार्ग संसार में दिखाई नहीं देता है. यह एक ऐसी परिस्थिति होती है जब व्यक्ति के पास सांसारिक रूप से बहुत कुछ तो होता है पर उसके पास मन की शांति नहीं होती है जिसे खोजने के लिए वह अपनी निष्ठा और…

Read More

मोदी सरकार का फ्लोर मॅनेजमेंट

अपनी मेहनत और पूर्ण सहयोगी अमित शाह के भाजपा अध्यक्ष के रूप में साथ होने से पीएम मोदी ने जो कुछ भी हासिल किया है उसके महत्व को पार्टी के सांसद और विधायक या तो समझते ही नहीं हैं या फिर वे यह समझते हैं कि पार्टी के सामने आने वाली हर चुनौती को भी मोदी-शाह की जोड़ी ही संभाल लेगी. लोकसभा में स्पष्ट बहुमत और राज्यसभा में मुद्दों आधारित मिलने वाले समर्थन के बाद भी संविधान के १२३वें संशोधन विधेयक पर जिस तरह की अव्यवस्था और लापरवाही भाजपा के…

Read More

बिहार, नितीश और राजनीति

तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले खुलने के बाद जिस तरह से बिहार के सीएम नितीश कुमार ने बहुत आगे जाकर राज्य में तीन पार्टियों के महगठबंधन को तोड़ते हुए एनडीए में शामिल होने का फैसला किया वह निश्चित रूप से बहुत लोगों को अखर रहा है पर इसमें ऐसा कुछ भी नहीं है कि जिसको नैतिकता, विचारधारा या अन्य भारी भरकम शब्दों के माध्यम से तौला जाये क्योंकि आज देश में राजनीति जिस स्तर पर पहुंची हुई है वहां विचारधारा, अंतरात्मा की आवाज़ आदि ऐसे शब्द बन चुके…

Read More