लोकतंत्र, चुनाव और शालीनता

                                                 ऐसा नहीं है कि २०१९ में देश में पहली बार कोई आम चुनाव हो रहे हैं पर वर्तमान में चल रहे चुनावों में जिस तरह से हर दल के शीर्ष नेता द्वारा मर्यादाओं का उल्लंघन किया जा रहा है वह भले ही उस सम्बंधित दल को कुछ वोट दिलवाने में मदद कर दे पर […]

बेरोजगारी भत्ता या श्रम सृजन

                                               देश में भले ही आगामी लोकसभा की चुनावी महाभारत से पहले कांग्रेस के तीन राज्यों में किसानों की कर्जमाफी की घोषणा से स्थितियां कुछ हद तक उसके पक्ष में हुई हो पर उससे किसानों की दशा पूरी तरह सुधारी नहीं जा सकती है ठीक उसी तरह से आज देश के युवाओं के सामने जिस […]

बेरोजगारी भत्ता और युवा शक्ति

                                   देश में बढ़ती बेरोजगारी और घटते रोजगार के अवसरों के बीच युवाओं के लिए उनकी प्रगति के साथ उम्मीदों को पूरा करना आज हर राजनैतिक दल के लिए एक समस्या बनता जा रहा है. आज जिस तरह से देश की अधिकांश आबादी युवा होती दिख रही है उसके बीच इस बड़े वोट समूह की […]