सेना के असुरक्षित कैंप

पठानकोट के बाद उरी में हुए आतंकी फिदायीन हमले जिस तरह से सेना के सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित कैम्प्स की सुरक्षा से जुड़े हुए गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं वहीं इस बात पर भी विचार करने के लिए मजबूर कर दिया है कि क्या हमारे सैनिक इस तरह के हालात में रह रहे हैं जहाँ पर उनके लिए अपनी सुरक्षा कर पाना भी मुश्किल हो रहा है ? यह सही है कि स्थायी छावनी और विभिन्न तरह के अस्थायी कैम्प्स में सुविधाओं में बड़ा अंतर हुआ करता है फिर…

Read More

टाट्रा ट्रक और सेना

                                                                       देश के सेनाध्यक्ष रहते हुए जनरल वीके सिंह ने किस हद तक जाकर घूस के सनसनी खेज आरोप लगाकर किस तरह से देश की रक्षा आवश्यकताओं को पलीता लगाया था अब यह बात धीरे धीरे सामने आ रही है. टाट्रा जैसे विश्व प्रसिद्द विश्वसनीय ट्रक के बारे में उन्होंने जिस तरह से यह कहकर मामले को गर्मा दिया था कि मानक से कम क्षमता के ट्रक आपूर्ति करने के लिए उनको रिश्वत की पेशकश की गयी थी उससे रक्षा मंत्रालय से लगाकर संसद तक में हंगामा खड़ा हो गया…

Read More

आज के दौर में भारत रूस संबंध

                                                         आज़ादी के बाद से ही भारत सरकार के रूस की तरफ एक तरफ़ा झुकाव के चलते जिस तरह से दोनों देशों के बीच नज़दीकियां बनी रहीं वे कमोबेश आज भी जारी ही हैं पर आज के परिदृश्य में जब अमेरिका की तरफ अधिक झुकी रहने वाली भाजपा की सरकार भारत में है तो रूस के लिए अपने पुराने सहयोगी भारत में पैर जमाये रखने के लिए अधिक प्रयास करने पड़ रहे हैं. आज तक जिस तरह से दोनों देशों ने द्विपक्षीय मामलों में एक दुसरे के हितों को ही…

Read More