सर्जिकल स्ट्राइक और संसद

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ही जिस तरह से देश में माहौल बना हुआ है उसके बारे में कहीं न कहीं से सरकार की संवेदनशीलता में कमी ही दिखाई दे रही है क्योंकि इतने सफल और महत्वपूर्ण प्रयास के बाद जिस तरह से देश में छिछले स्तर की राजनीति शुरू हुई उसकी कोई आवश्यकता भी नहीं थी पर संभवतः हमारा लोकतंत्र और नेता अभी इतने परिपक्व नहीं हुए हैं कि महत्वपूर्ण मुद्दों पर सही तरह से सामंजस्य बनाकर काम कर सकें. यह सही है कि सेना के काम में सदैव…

Read More

सैन्य अभियान और सरकार

पाकिस्तान की तरफ से छेड़े गए छद्म युद्ध से निपटने की तरकीबें खोजने में व्यस्त भारत सरकार, रक्षा विशेषज्ञ और सेना के सामने पहले से ही कम गंभीर चुनौतियाँ नहीं है पर जिस तरह से सोशल मीडिया में कुछ समूहों और लोगों की तरफ से लगातार काग़ज़ी दबाव बनाने की कोशिशें की जा रही हैं उसके बाद इन सभी लोगों के लिए और भी अधिक मुश्किलें सामने आने वाली हैं. यह सही है कि पाकिस्तान और कश्मीर मामले पर संघ के सभी अनुषांगिक संगठनों और भाजपा द्वारा देश में जिस…

Read More

सेना के असुरक्षित कैंप

पठानकोट के बाद उरी में हुए आतंकी फिदायीन हमले जिस तरह से सेना के सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित कैम्प्स की सुरक्षा से जुड़े हुए गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं वहीं इस बात पर भी विचार करने के लिए मजबूर कर दिया है कि क्या हमारे सैनिक इस तरह के हालात में रह रहे हैं जहाँ पर उनके लिए अपनी सुरक्षा कर पाना भी मुश्किल हो रहा है ? यह सही है कि स्थायी छावनी और विभिन्न तरह के अस्थायी कैम्प्स में सुविधाओं में बड़ा अंतर हुआ करता है फिर…

Read More