समग्र कृषि नीति की आवश्यकता

म० प्र० और महाराष्ट्र में किसानों की तरफ से शुरू किया गया असहयोग आंदोलन मंदसौर में हिंसक होकर ५ परिवारों के लिए अँधेरे लेकर ही आया और अब इस पर सीधे आरोप प्रत्यारोपों के साथ, मीडिया और सोशल मीडिया पर सरकार समर्थक और विरोधी एक दूसरे को गलत साबित करने में लगे हुए हैं. जहाँ तक मंदसौर की बात है तो यह इलाका हर प्रकार से संपन्न और शांत ही माना जाता है और यहाँ से कभी भी किसी भी प्रकार के हिंसक आंदोलनों की लगातार होने वाली घटनाएं भी…

Read More

मानसून और भारतीय कृषि

                                             अभी तक अल नीनो प्रभाव के कारण मानसून के कमज़ोर या अलग तरीके से व्यवहार करने के अनुमानों को गलत साबित करते हुए जिस तरह से बंगाल की खाड़ी से मानसून ने अपनी सामान्य गतिविधियाँ शुरू कर दी हैं और मौसम वैज्ञानिक उसकी प्रगति पूरी तरह सही बता रहे हैं वह देश के कृषि क्षेत्र के लिए एक बड़ी उत्साहजनक खबर है. आज भी भारतीय कृषि का अधिकतर हिस्सा मानसून पर ही आधारित है तथा उसके किसी भी तरह से कमज़ोर या अलग व्यवहार करने भारतीय अर्थ व्यवस्था पर…

Read More

मानसून, कृषि और भण्डारण

                              एक लम्बे अन्तराल के बाद देश में मानसून की सक्रियता की अवधि लम्बी होने से जहाँ कृषि विशेषज्ञ अच्छी पैदावार की आशा लगा रहे हैं वहीं हमेशा की तरह बहुत अच्छी पैदावार होने पर किसानों को होने वाली समस्याओं पर विचार करने के लिए आज तक भी देश के पास मज़बूत भण्डारण की व्यवस्था नहीं हो पायी है जिससे असमय वर्षा के कारण पूरे देश से ही सरकार द्वारा खरीद कर रखे गए अनाज के भीगने की ख़बरें सुर्खियाँ बटोरती रहती हैं. भारत में आज भी कृषि के मुख्य…

Read More