कश्मीर – वार्ता का अवरोध

जुलाई माह से ही घाटी के लोगों समेत पूरे देश के लिए समस्या बना हुआ कश्मीर अपने आप में ऐसे सवाल खड़े कर देता है जिससे पार पाने के लिए केवल राजनैतिक, आर्थिक और सामाजिक स्तर पर ही वार्ता से काम नहीं चलने वाला है क्योंकि जून का टूरिस्ट सीज़न बीतने के बाद और अमरनाथ यात्रियों की संख्या में बंद के चलते अभूतपूर्व गिरावट के बाद अब आम कश्मीरियों के सामने रोज़ी रोटी का संकट भी आ गया है. अपनी खूबसूरती के लिए पूरी दुनिया में मशहूर कश्मीर आज जिस…

Read More

कश्मीर में वार्ता की राह

बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से ही पाक के इशारे पर सुलग रही कश्मीर घाटी के लिए अब केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग और मतभेदों के साथ वार्ता की बात भी सामने आ रही है. निश्छित तौर पर इस परिस्थिति से  केवल कानून का सहारा नहीं लिया जा सकता है पर जिस तरह से इस महत्वपुर्ण मुद्दे पर भारत और केंद्र सरकार की छवि पर आंच आ रही है उस पर तत्काल कदम उठाये जाने की आवश्यक भी है. पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह की घाटी यात्रा…

Read More

अशांत कश्मीर और पाकिस्तान

पाकिस्तान के अवैध कब्ज़े के चलते जम्मू कश्मीर देश के लिए आज़ादी के बाद से ही एक बड़ी समस्या के रूप में लगातार सामने आता रहा है क्योंकि पाकिस्तान को यह लगता है कि भारत के बंटवारे के समय जो नीति अपनायी गयी थी वह सही नहीं थी और कश्मीर में अधिक मुस्लिम आबादी होने के कारण पाकिस्तान का हिस्सा ही होना चाहिए भले ही वहां के शासक कुछ भी कहते रहें पर साथ ही वह गिलगित बाल्टिस्तान और बलोचिस्तान के लिए इस सूत्र को लागू नहीं करना चाहता जहाँ…

Read More