मेरी राय अब मेरी वेबसाइट पर

समाचार पत्रों में १९८६ से ही संपादक के नाम पत्र लिखने की आदत जो बदलती हुई प्राथमिकताओं में भी लगातार बनी ही रही वह ब्लॉग के प्लेटफॉर्म के मिलने के बाद २००८ से लगातार लिखने को प्रेरित भी करती रही। इन बीते आठ सालों में देश दुनिया के सामने आने वाले ताज़ा मुद्दों पर अपनी राय आप सभी तक पहुँचाने का क्रम भी चलता ही रहा है. एक समय ब्लॉग्स को प्रिंट मीडिया में व्यापक स्थान मिलने लगा था तो दैनिक जागरण, नवभारत टाइम्स, अमर उजाला, जनसत्ता, हरिभूमि, भास्कर आदि…

Read More

सेना और सोशल मीडिया

                                                                देश में बाह्य कारणों से काफी लम्बे समय से अशांत आंतरिक क्षेत्रों में जिस तरह से सोशल मीडिया के माध्यम से सेना पर आरोप लगाने का एक नया क्रम शुरू हुआ है सेना भी उससे भलीभांति परिचित है और इसी सम्बन्ध में एक बार फिर से सेना की तरफ से सभी सैन्य कर्मियों को वे नियम भेजे गए हैं जिनके अंतर्गत वे सोशल मीडिया पर बने रह सकते हैं. आज जिस तरह से इंटरनेट का प्रचार प्रसार बढ़ा है और पूरी दुनिया में आतंकी संगठन भी इसका धड़ल्ले से…

Read More

योजना आयोग का विकल्प

                                            १५ अगस्त लालकिले से की गयी अपनी घोषणा के सन्दर्भ में आज पीएम योजना आयोग के विकल्प के तौर पर काम करने वाली संस्था पर विचार करने के लिए राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करने जा रहे हैं. यह सही है कि अभी तक योजना आयोग अपने आप में राज्यों और केंद्र के बीच धन आवंटन का बहुत बड़ा साधन रहा है पर इसमें भी संभवतः उस तरह की गुंजाईश बची हुई थी कि जिसके माध्यम से सरकार पूरी व्यवस्था को एक बार फिर से दुरुस्त करने की…

Read More