>टेलिकॉम घोटाला और छापे

>आखिरकार जिस तरह से नीरा राडिया और टेलीफोन टेप मामले और २जी घोटाले से जुड़े मामलों में सीबीआई ने कुछ कार्यवाही शुरू कर ही दी जिस कड़ी में इन लोगों से जुड़े कई प्रतिष्ठानों में छापे मारे गए हैं वह अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण हैं. जिस तरह से इस पूरे मामले में डीएमके से जुड़े हुए लोगों की भूमिका शुरू से ही संदिग्ध मानी जा रही थी उसे देखते हुए अभी तक यही कयास लगाये जा रहे थे की क्या जांच की आंच तमिलनाडु तक भी कभी पहुँच पायेगी ? पर जिस तरह से जांच डीएमके से जुड़े हुए लोगों और यहाँ तक क़ि करूणानिधि की बेटी और सांसद कनिमोझी तक भी पहुँच रही है उससे तो यही लगता है क़ि मनमोहन और सोनिया ने यह तय कर लिया है क़ि अब यह मामला किसी नतीजे तक अवश्य पहुंचे.
     संसद में जिस तरह से कांग्रेस ने अपने को संयुक्त संसदीय समिति के मामले में सख्त दिखाया और अब पूरी ताकत से सीबीआई को यह अधिकार दे दिया क़ि वह अपने अनुसार काम कर सके तो यह अपने आप में एक अच्छा संकेत है पर यह जांच केवल कुछ छापों तक ही नहीं रुकनी चाहिए क्योंकि अब जनता यह सब समझती है क़ि कौन किस मतलब से यह सारे काम कर रहा है. अगर मनमोहन वास्तव में इस मसले को किसी नतीजे तक पहुँचाना चाहते हैं तो उन्हें सारी बातें भूलकर पहले जांच के लिए एजेंसी को पूरी छूट देनी होगी क़ि वह बिना किसी दबाव के अपना काम ठीक तरह से कर सके. जब बात भ्रष्टाचार की आती है तो कई बार हमारा  देश सही समय पर सही कदम उठाने से चूक जाता है  और इसका खामियाजा बहुत दिनों बाद तक पूरे देश को भुगतना पड़ता है.
    कोई भी सरकार देश से बड़ी नहीं हो सकती है और जब तक देश हित को सर्वोच्च नहीं माना जायेगा तब तक कुछ लोग इसी तरह से अपने उल्लू को सीधा करने के लिए हर तरह के हथकंडे अपनाते रहेंगें. अगर द्रमुक के लोग इस मसले में दोषी हैं तो उन्हें बचाने की कोई भी जुगत कांग्रेस को आगे बहुत भारी पड़ने वाली है और किसी भी स्थान पर  वह जवाब देने लायक नहीं बचेगी इस बात का सबसे पक्का उदाहरण बोफोर्स मामले से दखा जा सकता है कि वह मामला इतना उछल गया था कि उसने राजीव सरकार की बलि ले ही ली थी. अब यह कांग्रेस पर निर्भर करता है कि वह इस मामले की पूरी जांच करना चाहती है या फिर केवल कुछ समय के लिए अपने को पाक साफ़ दिखाने के लिए केवल नूरा  कुश्ती ही कर रही है….        

मेरी हर धड़कन भारत के लिए है…

Related posts

0 Thoughts to “>टेलिकॉम घोटाला और छापे”

  1. >है तो खरी बात देखे क्या होता है।

  2. >मनमोहन और सोनिया ने यह तय कर लिया है क़ि अब यह मामला किसी नतीजे तक अवश्य पहुंचेआप भी खुशफहमी में हैं.. जिन लोगों की निगहबानी में थे, वे अब सजा दिलवायेंगे! कमाल है! धन्य है आपकी आशावादिता..

  3. >इस बार के चर्चा मंच पर आपके लिये कुछ विशेषआकर्षण है तो एक बार आइये जरूर और देखियेक्या आपको ये आकर्षण बांध पाया ……………आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी हैकल (20/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकरअवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।http://charchamanch.uchcharan.com

  4. >भ्रष्टाचारियों को सजा ऐसी मिले कि दूसरा कोई ऐसे अपराध करने की हिम्मत न करे । अच्छी पोस्ट , शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"